मैं अंग्रेजी बोलने के खिलाफ नहीं लेकिन हमें अपने मूल्यों और नैतिकता को नहीं भूलना चाहिए: शुभांगी अत्रे

0
124

मुंबई। विश्व हिंदी दिवस पर, ‘भाभीजी घर पर हैं’ की अभिनेत्री शुभांगी अत्रे ने भारतीय माता-पिता से अपने बच्चों को दैनिक जीवन में संवाद करने के लिए हिंदी सिखाने का आग्रह किया है। विश्व हिंदी दिवस हर साल 10 जनवरी को मनाया जाता है, जो 1975 में नागपुर में आयोजित किया गया था। इसका मुख्य उद्देश्य दुनिया भर में हिंदी भाषा के उपयोग को बढ़ावा देना है।

इसे भी पढ़ें: पंकज त्रिपाठी ने शुरू की ‘क्रिमिनल जस्टिस 3’ की शूटिंग

उन्होंने कहा, “हिंदी मेरी मातृभाषा है और हमारी राष्ट्रीय भाषा हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण है। लेकिन आज यह देखना निराशाजनक है कि माता-पिता अपने बच्चों को हिंदी के बजाय अंग्रेजी पढ़ाने में ध्यान दे रहे हैं। कई लोग अंग्रेजी का उपयोग करने के आदी हैं। मैं अंग्रेजी बोलने के खिलाफ नहीं हूं, लेकिन हमें अपने मूल्यों और नैतिकता को नहीं भूलना चाहिए। हिंदी हमारी प्राथमिकता होनी चाहिए।” अभिनेत्री आगे अपनी चिंता व्यक्त करती है कि कैसे एक भाषा के रूप में हिंदी पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है।

इसे भी पढ़ें: मेरे किरदार ने चिकित्सा पेशेवरों के दृष्टिकोण को समझने में मदद की

उन्होंने आगे कहा, “हिंदी निश्चित रूप से हम भारतीयों की घरेलू भाषा है। हिंदी एक बहुत ही सुंदर भाषा है। अब, हालांकि हिंदी सीखना कम फैशनेबल लगता है, लोग विदेशी भाषाओं से अधिक मोहित हो रहे हैं और हिंदी भाषा को भूल रहे हैं. शुभांगी ने ‘कस्तूरी’, ‘दो हंसों का जोड़ा’, ‘स्टोरीज बाय रवींद्रनाथ टैगोर’ शो में अभिनय किया है। उन्होंने आगे कहा, “हिंदी वह भाषा है जो हमें अपनी जड़ों से जोड़े रखती है।”

इसे भी पढ़ें: टीवी की दुनिया में कदम रखने को तैयार रानी चटर्जी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here