मोदी ने गुजरात में किया मल्टीस्पेशलिटी अस्पताल का उद्घाटन, बोले- हमने गरीब की सेवा, सुशासन और गरीब के कल्याण को सर्वोच्च प्राथमिकता दी

0
124

राजकोट। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को गुजरात के राजकोट में एक जनसभा को संबोधित किया। इससे पहले उन्होंने यहां नवनिर्मित माटुश्री केडीपी मल्टीस्पेशलिटी अस्पताल का उद्घाटन किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री भूपेंद्रभाई पटेल भी मौजूद रहे। जनसभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज जब गुजरात की धरती पर आया हूं तो मैं सिर झुकाकर गुजरात के सभी नागरिकों का आदर करना चाहता हूं।

इसे भी पढ़ें: अखिलेश यादव पर जमकर बरसे CM योगी, चाचा शिवपाल की तारीफ की

उन्होंने कहा कि आपने मुझे जो संस्कार और शिक्षा दी, समाज के लिए जीने की बातें सिखाई, उसकी की बदौलत मैंने मातृभूमि की सेवा में कोई कसर नहीं छोड़ी। ये आप के ही संस्कार हैं, पूज्य बापू और सरदार पटेल की इस पवित्र धरती के संस्कार हैं कि 8 साल में गलती से भी ऐसा कुछ किया है, जिसके कारण आपको या देश के किसी नागरिक को अपना सिर झुकाना पड़े। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि केंद्र में भाजपा के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार राष्ट्रसेवा के 8 साल पूरे कर रही है। इन वर्षों में हमने गरीब की सेवा, सुशासन और गरीब के कल्याण को सर्वोच्च प्राथमिकता दी है। सबका साथ-सबका विकास, सबका विश्वास और सबका प्रयास के मंत्र पर चलते हुए हमने देश के विकास को नई गति दी है।

इसे भी पढ़ें: कर्नाटक के शिक्षा मंत्री ने कहा- स्कूल और कॉलेजों में सिर्फ यूनिफॉर्म की अनुमति है न कि हिजाब की

उन्होंने कहा कि हमारी माता-बहनों के जनधन बैंक खाते में सीधे पैसे जमा किए। किसानों और मज़दूरों के बैंक खाते में पैसा जमा किया। हमने मुफ्त गैस सिलेंडरों की भी व्यवस्था की ताकि गरीब की रसोई चलती रहे। उन्होंने कहा कि गरीबों की सरकार होती है तो कैसे उसकी सेवा करती है, उन्हें सशक्त करने के लिए काम करती है, ये आज पूरा देश देख रहा है। 100 साल के सबसे बड़े संकट काल में भी देश ने ये लगातार अनुभव किया है। महामारी शुरु हुई तो, गरीब के सामने खाने-पीने की समस्या हुई, तो हमने देश के अन्न भंडार खोल दिए। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हमारी सरकार सुविधाओं को शत प्रतिशत नागरिकों तक पहुंचाने के लिए अभियान चला रही है। जब हर नागरिक तक सुविधाएं पहुंचाने का लक्ष्य होता है तो भेदभाव भी खत्म होता है, भ्रष्टाचार की गुंजाइश भी नहीं होती।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here